निःशस्त्र अहिंसा की शक्ति किसी भी परिस्थिति में सशस्त्र शक्ति से सर्वश्रेष्ठ होगी।

Top News


प्रवेश परीक्षा 2016: एम.फिल. शिक्षाशास्‍त्र में चयनित अभ्‍यर्थियों की - द्वितीय सूची



बी.एड. पाठ्यक्रम में प्रतीक्षा सूची के अभ्यर्थी के प्रवेश की अनुशंसा की जाती है



एम.बी.ए सत्र 2015-16 में प्रवेश हेतु चयनित अभ्यर्थियों की सूची



एम.ए. शिक्षा शास्त्र सत्र 2015-16 में प्रवेश हेतु चयनित अभ्यर्थियों की सूची



बी.एड. (2015-16) पाठ्यक्रम में चयनित अभ्यर्थियों की सूची



पी-एच.डी.(2015)(शिक्षा शास्त्र)में प्रवेश हेतु योग्य पायें गये अभ्यर्थियों की सूची

एम.फिल.(2015)(शिक्षा शास्त्र)में प्रवेश हेतु योग्य पायें गये अभ्यर्थियों की सूची



"SPSS" पर दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यशाला के संदर्भ में

एस.पी.एस.एस. कार्यशाला में प्रतिभागिता के लिए आउटस्टेशन प्रतिभागियों की सूची



शिक्षा विभाग में 11 नवंबर 2016 को राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रमों के संबंध में सूचना एवं कार्यक्रम विवरण



'Teaching Online Courses Using Moodles' विषय पर राष्ट्रीय कार्यशाला के लिए प्रतिभागियों की सूची



कौन गढ़ता है भारतीय नारी की परिभाषा ? - भाषण प्रतियोगिता का आयोजन के संदर्भ में सूचना



18 वें स्थापना दिवस पर चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन



शिक्षा विद्यापीठ द्वारा "कलाम स्मृति" प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन



कवि श्री रामधारी सिंह दिनकर की जयंती के उपलक्ष्य में दिनांक 29.09.2015 को कविता के सस्वर प्रतियोगिता का आयोजन



वैश्वीकरण के युग में हिंदी की प्रासंगिकता बढी है विषय पर वाद - विवाद प्रतियोगिता



"शोध-दृष्टियों के परिप्रेक्ष्य " विषय पर कार्यशाला का आयोजन



डॉ.अनुराज शंकर,हार्वर्ड मेडिकल स्कूल, बोस्टन यू.एस.ए. का व्याख्यान दिनांक 23.08.2015 को आयोजित है



शिक्षा विद्यापीठ में दिनांक 14.08.2015 को स्वच्छता कार्यक्रम का आयोजन



"मानव संसाधन एवं भागवत गीता" विषय पर व्याख्यान का आयोजन



बी.एड. पाठ्यक्रम की नियमित कक्षाएं बुधवार दिनांक 29.07.2015 से आरम्भ होंगी|



शिक्षा विभाग में अकादमिक सत्र 2015-16 लिए निम्नलिखित संकाय सदस्यों को समन्वयक एवं सह-समन्वयक नियुक्त किया जाता है



शिक्षा विद्यापीठ द्वारा आयोजित राष्ट्रीय सांगोष्ठी कार्यक्रम विवरण - 2



महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी वि‍श्‍वविद्यालय में शनिवार से राष्‍ट्रीय संगोष्‍ठी



शिक्षा विद्यापीठ में विशेष व्याख्यान का आयोजन



पंजीकरण फॉर्म-राष्ट्रीय संगोष्ठी "शिक्षण, सीखने और जानने की दृष्टियों में बदलाव"



दो साल का बी.एड. अब हिंदी विश्वविद्यालय में



राष्ट्रीय संगोष्ठी : शिक्षण, सीखने और जानने की दृष्टियों में बदलाव



शिक्षा विद्यापीठ द्वारा 'संवर्धन ई-पत्रिका' प्रारंभ



"पुस्तक विमर्श" परिचर्चा मंच की शुरुवात



अधिसूचना- विभागाध्‍यक्ष, शिक्षा विभाग के संदर्भ में।‏



अभिप्रेरित शिक्षक (Inspired Teacher) मंच का गठन



आमंत्रण पत्र (राष्ट्रीय शिक्षा दिवस)11/11/2014


समय-सारणी

एम. ए. शिक्षाशास्त्र 2015-17 चतुर्थ सेमेस्टर समय-सारणी (क्रेडिट-20)

एम. एड. 2016-18 द्वितीय सेमेस्टर समय-सारणी (क्रेडिट-20)

बी. एड. 2015-17 चतुर्थ सेमेस्टर समय-सारणी (क्रेडिट-20)

बी. एड. 2016-18 द्वितीय सेमेस्टर समय-सारणी (क्रेडिट-20)

बी. एड.-एम. एड. एकीकृत 2016-19 द्वितीय सेमेस्टर समय-सारणी (क्रेडिट-20)



अस्थायी तौर पर शैक्षणिक पदों के लिए walk-in-Interview
Application Form



शिक्षा विभाग के समस्त विद्यार्थियों के लिए आवश्यक सूचना


शिक्षा विद्यापीठ

अधिष्ठाता का संदेश

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के शिक्षा विद्यापीठ में आप सभी का स्वागत है । बौद्धिक ढंग से संचालित भावानात्मक-संज्ञानात्मकगतिविधियो के अनगिनत सत्रों के माध्यम से रूपांतरण की प्रक्रिया में स्वयं शामिल होकर तथा दूसरों के रूपांतरण में सहायक होने में सक्षम बनने के लिए हमसे जुड़े, जिससे कि लोकतांत्रिक, न्यायसम्मत और निष्पक्ष ज्ञान-समाज के यथार्थ रूप को अनुभूत किया जा सके !

शिक्षा विद्यापीठ का लक्ष्य

आज शिक्षा, अपने अनेक रूपों और संस्थाओं के साथ समाज में उपस्थित है। इसे वैयक्तिक विकास, सामाजिक बदलाव और आर्थिक विकास को पाने के माध्यम के रूप में देखा जाता है। बदलते सामाजिक-आर्थिक परिवेश ने जहाँ शिक्षा के नए अवसर पैदा किए हैं वहीं कुछ नई चुनौतियाँ भी खड़ी की हैं। समकालीन परिवेश में शिक्षा की विकास की अन्य नीतियों के साथ सघन अन्तःक्रिया भी हो रही है। इस प्रसंग में शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराने और इसके संस्थागत रूप के क्रियान्वयन के साथ-साथ उसके प्रति एक सर्तक आलोचनात्मक दृष्टि भी रखने की आवश्यकता है। इन संदर्भो को ध्यान में रखते हुए शिक्षा विद्यापीठ का उदेश्य शिक्षकों और शिक्षक-शिक्षकों की अकादमिक और वृत्तिक विकास के अवसरों को उपलब्ध कराना हैं. इस विद्यापीठ का उदेश्य योग्य, रचनाधर्मी, समर्पित और संवेदनशील अध्यापक का विकास हैं, जो विद्यार्थियों को उनके सामाजिक सन्दर्भ के अन्तर्गत समझे और ज्ञान के सह-निर्माण के अवसर उपलब्ध कराएं. इसके साथ शिक्षा से जुड़े विभिन्न क्षेत्रों में शोध के प्रति सचेत करना और शोध कार्य का बीजारोपण करना, शिक्षा के विभिन्न सरोकारों से जुड़े परिप्रेक्ष्यों का विकास करने का प्रयास भी इस विद्यापीठ द्वारा किया जायेगा.

विभाग का ब्लॉग